Breaking News

भारतीय सेना में पदस्थ मध्य प्रदेश के लोकेंद्र सिंह ठाकुर को नम आंखों से अंतिम विदाई, जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में दो दिन पहले आतंकी हमले में हुए थे शहीद।

भोपाल:- जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में दो दिन पहले आतंकी हमले में शहीद हुए सीहोर जिले के आष्टा क्षेत्र के गांव गवाखेड़ा के रहने वाले भारतीय सेना के जवान लोकेंद्र सिंह ठाकुर को शनिवार को उनके गृह ग्राम में सैनिक सम्मान के साथ अंतिम संस्कार हुआ।

उनकी अंतिम यात्रा में जन सैलाब उमड़ पड़ा। हजारों लोगों ने उन्हें नम आंखों से अंतिम विदाई दी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शहीद हुए सेना के जवान लोकेंद्र सिंह ठाकुर की शहादत पर शोक व्यक्त किया है।

सीहोर जिले के आष्टा क्षेत्र के गांव गवाखेड़ा के रहने वाले भारतीय सेना के जवान लोकेंद्र सिंह ठाकुर जम्मू कश्मीर के कुपवाड़ा में तैनात थे। दो दिन पहले आतंकवादियों के हमले में वे शहीद हो गए थे। शनिवार को सेना के विमान से उनका पार्थिव शरीर भोपाल लाया गया। जहां से उनके गृह ग्राम लाया गया। शहीद के गांव के लोगों सहित हजारों देश भक्तों ने पुष्प वर्षा कर उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की। सेना के जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर दिया।

शहीद जवान लोकेंद्र सिह ठाकुर को सैन्य सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। सेना के जवान उनके पार्थिव शहीर को लेकर उसके गांव गवाखेड़ा पहुंचे। शहीद की एक झलक पाने के लिए सुबह से ही मौके पर हजारों की संख्या में लोग मौजूद रहे। गमगीन माहौल के बीच लोगों ने आतंकवाद मुर्दाबाद के नारे लगाए गए। वहीं, जब तक सूरज चांद रहेगा, लोकेंद्र तेरा नाम रहेगा, भारत मां की जय जैसे. शब्द पूरे गांव में गूंजते रहे। शहीद को मुखाग्नि उनके पिता कमल सिंह ठाकुर ने दी।

हजारों की भीड़ शहीद की एक झलक पाने के लिए बेताब थी। जवानों ने पार्थिव शरीर को सम्मानपूर्वक वाहन से निकालकर कंधे पर उठाया और लोकेंद्र के आंगन तक गए। देश सेवा में जान गंवाने वाले बेटे को देखने के लिए ले सुबह से लोग इंतजार कर रहे थे। जैसे ही तिरंगे से लिपटे लोकेंद्र को देखा, वहां मौजूद सभी की आंखें नम हो गईं।

शहीद लोकेंद्र के बुजुर्ग माता-पिता के मुंह से बेटे की शहादत पर शब्द नहीं फूट रहे थे। वहीं, पत्नी के रो-रो कर बुरा हाल था। नम आंखों से सभी ने जांबाज बेटे को आखिरी विदाई दी। ग्रामीणों ने बताया कि लोकेंद्र परिवार का इकलौता बेटा था। उसकी एक साल पहले ही शादी हुई थी। वह चार साल पहले फौज में भर्ती हुआ था। गांव पहुंचे पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, पूर्व पीडब्ल्यूडी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा, भाजपा विधायक रघुनाथ मालवीय, जिला अध्यक्ष रवि मालवीय सहित बड़ी संख्या में लोगों ने श्रद्धांजलि दी। इसके बाद गृह ग्राम में उनका सैनिक सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने लोकेंद्र सिंह ठाकुर की शहादत पर शोक व्यक्त किया है। उन्होंने शनिवार को ट्वीट के माध्यम से शहीद लोकेंद्र ठाकुर की वीरता को नमन करते हुए ईश्वर से उन्हें अपने श्रीचरणों में स्थान प्रदान करने और उनके परिजनों व परिचितों को यह दुख सहन करने की शक्ति प्रदान करने की प्रार्थना की है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button