Breaking News

वनमंत्री को शंकरशाह के बलिदान स्थल पर जाने से रोका,- दिग्विजय ने कसा तंज- या तो वह इस्तीफा दे दें या मुख्यमंत्री को हटाने की मुहिम में जुड़ जाएं

 साभार 

 

राजस्थान। गोंडवाना राजा शंकर शाह और कुंवर रघुनाथ शाह के बलिदान दिवस पर माल गोदाम शहीद स्थल पर पहुंचे प्रदेश के वन मंत्री विजय शाह को सुरक्षाकर्मियों ने रोक दिया। उनकी नोकझोंक भी हुई, लेकिन केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के आने का समय होने की वजह से उन्हें नहीं जाने दिया गया। विजय शाह ने कहा- मैं वन मंत्री हूं। क्या हम फूल नहीं चढ़ा सकते। हम गोंड वंश के हैं। रानी दुर्गावती के वंशज हैं। इस पर वे बाहर से ही नमन करके चले गए। इस पर कांग्रेस ने चुटकी ली है। दिग्विजय सिंह ने कहा- उनके पास दो विकल्प हैं, या तो वह इस्तीफा दे दे या मुख्यमंत्री को हटाने की मुहिम में जुड़ जाएं। विधायक ओमकार सिंह ने आदिवासी संगठनों को पूजन से रोकने पर विरोध जताया। विधायक ने वन मंत्री विजय शाह के रोके जाने पर भी चुटकी ली। उन्होंने भाजपा के आदिवासी नेताओं पर निशाना साधा। कहा कि आप लोगों को इंदौर से टिकट नहीं दिया है। अहमदाबाद से टिकट नहीं दिए हैं। हमारे मंडला, डिंडौरी और जबलपुर से दिया है। चाहे विजय शाह हो या अन्य आदिवासी सीट से जीत कर आए हैं। आदिवासियों को धक्का मारा जा रहा है और आप लोग मंत्री बन बैठकर देख रहे हो। आपको सम्मान नहीं मिल रहा है तो कांग्रेस में आ जाओ।

 सिंधिया से आदिवासियों के विकास की उम्मीद नहीं 

कांग्रेस विधायक ओमकार सिंह मरकाम ने केंद्रीय राज्यमंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया को आड़े हाथ लिया। उन्होंने कहा कि सिंधिया ने कांग्रेस में होते हुए भी आदिवासियों को विकास नहीं किया और अब तो और भाजपा में चले गए हैं उनसे विकास की उम्मीद करना बेईमानी होगी। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि बलिदान दिवस के कार्यक्रम से जुड़े संगठनों को ही इन नेताओं से दूर कर दिया गया है। इसे लेकर कार्यक्रम से जुड़े 10 संगठनों में गुस्सा है। गोंडवाना संरक्षण संघ 1980 से राजा शंकर शाह और रघुनाथ शाह का बलिदान दिवस मनाता आ रहा है। सुबह 10 बजे सबसे पहले समाज की महिला पूरे क्षेत्र को बांधती हैं और प्रतिमा स्थल पर कार्यक्रम समाप्ति होने तक बैठी रहती हैं। संगठन की मान्यता है कि इस धार्मिक अनुष्ठान के चलते कभी कोई अनहोनी नहीं होती है। प्रशासन की सख्ती और स्थानीय नेताओं की दूरी से रोष

बलिदान दिवस से जुड़े संगठनों के मुताबिक प्रशासन और स्थानीय नेताओं ने संगठन को दरकिनार कर अपनी मनमानी थोपने का प्रयास कहया। इससे लोगों में गहरी नाराजगी है। हर साल महाकौशल के हर जिले से चार से पांच हजार लोग यहां श्रद्धा सुमन अर्पित करने पहुंचते हैं। सभी को अमित शाह व सीएम की मौजूदगी के समय प्रतिमा स्थल से दूर रहने के लिए हिदायत दे दी गई है। हालांकि, सांसद राकेश सिंह इसे राजनीति से प्रेरित बताया है। कहा कि देश के गृहमंत्री की बजाए उनकी मांग सीएम, सांस्कृतिक विभाग से जुड़े मंत्री कर सकते हैं। हमारी योजना इस स्थल के विकास की कार्ययोजना है। इस पर जल्द ही अमल भी होगा।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button