Breaking News

भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान में भिण्डी एवं कद्दूवर्गीय सब्जियों के तकनीकी प्रसार दिवस का आयोजन

रोहनिया-शाहंशाहपुर स्थित भारतीय सब्जी अनुसंधान संस्थान में सोमवार को भिण्डी एवं कद्दवर्गीय सब्जियों के तकनीकी प्रसार दिवस का आयोजन संस्थान एवं जोनल तकनीकी प्रबंधन इकाई द्वारा किया गया। इस अवसर पर बीज कम्पनियों के प्रतिनिधियों को संस्थान द्वारा विकसित भिण्डी एवं कद्दूवर्गीय सब्जियों की उन्नत प्रजातियों से अवगत कराया गया। संस्थान के निदेशक डॉ. तुषार कांति बेहेरा ने प्रतिभागियों को पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप के माध्यम से संस्थान के भिण्डी, करेला, लौकी, नेनुआ, तरबूज एवं अन्य कद्दूवर्गीय सब्जियों की उन्नत किस्मों को किसानों एवं हितग्राहियों तक पहुँचाने हेतु अनुज्ञा (लाइसेन्सिंग) एवं अन्य कार्यक्रमों में सहायता देने की बात कही। 

डॉ. प्रभाकर मोहन सिंह, विभागाध्यक्ष (फसल उन्नयन विभाग) एवं जोनल तकनीकी प्रबंधन इकाई के अध्यक्ष ने बीज कंपनियों के प्रतिनिधियों से प्रक्षेत्र भ्रमण के दौरान संस्थान द्वारा विकसित भिण्डी एवं कद्दूवर्गीय सब्जियों की उन्नत किस्मों के मूल्यांकन एवं लाइसेन्सिग हेतु सुझाव एवं प्रक्रियाओं पर विस्तृत चर्चा कर फसल उन्नयन कार्यक्रमों को और अधिक सुदृढ़ करने की बात बतायी। इस अवसर पर बीज कंपनियों जैसे एडवांटा सीड्स, अंकुर सीड्स, रैलिस इण्डिया लिमिटेड, सीड वर्क्स इण्टरनेशनल लि., ईगल सीड्स एवं बायोटेक लि., दयाल सीड्स प्र. लि., टियारा सीड्स, ईस्ट वेस्ट सीड्स, जी.एम.एस. एग्रीटेक प्र. लि., एच.एम. क्लॉज इण्डिया प्र. लि., जे.के. एग्री-जिनेटिक्स लि., वी एन आर सीड्स प्र. लि., नोवल सीड्स प्र. लि., निर्मल सीड्स, अजीत सीड्स प्र. लि.,न्यू हॉलैण्ड सीड्स, नुजीवीडू सीड्स, सकाटा सीड्स, एसेम हाईवेज एवं तुहुम बायोटेक इत्यादि के 70 प्रतिनिधियों ने भाग लिया। प्रक्षेत्र भ्रमण एवं प्रतिक्रिया सत्र में प्रतिभागियों ने प्रदर्शित प्रजातियों की गुणवत्ता की प्रशंसा की और अपनी अपनी कंपनी से इन प्रजातियों के लाइसेंस की संस्तुति हेतु सिफारिश करने का आश्वासन दिया।

इस कार्यक्रम में डॉ. के. के. पाण्डेय, डॉ. एस. एन. एस. चैरसिया, संस्थान के अन्य वैज्ञानिक एवं तकनीकी कर्मचारी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन डॉ. शैलेश कुमार तिवारी, वरिष्ठ वैज्ञानिक ने किया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button