Breaking News

शिक्षा व्यवस्था में सुधार व महिला अधिकार के प्रति किया जागरूक व थाना भ्रमण

   

वाराणसी। बच्छाव में शिक्षा व्यवस्था में सुधार हो सबको शिक्षा के अधिकार के तहत निःशुल्क शिक्षा मिले, शिक्षा गुणवत्तापरक हो और इसमे विद्यालय प्रबंधन समिति का क्या महत्व है और महिला चेतना समिति इसमे किस प्रकार हस्तक्षेप कर सकती है और महिलाओं को क्या क्या अधिकार मिले है इस उद्देश्य को लेकर लोक चेतना समिति द्वारा महिला चेतना समिति व विद्यालय प्रबंधन समिति पदाधिकारियों के संयुक्त बैठक का आयोजन किया गया ,वक्ताओ द्वारा प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा गया कि 6 वर्ष से लेकर 14 वर्ष के बच्चों की शिक्षा के अधिकार के तहत निःशुल्क शिक्षा की व्यवस्था की गई है और शिक्षा व्यवस्था अच्छे से चले इसके लिये विद्यालय प्रबंधन समिति की व्यवस्था की गई है जिसमे शिक्षार्थी के माता पिता या अभिभावक सदस्य होते है और विद्यालय प्रबंधन समिति की जिम्मेदारी है स्कूल की शिक्षा ,शिक्षक की उपलब्धता, शिक्षा, मिड डे मील की गुणवत्ता, बच्चों का नामांकन,शौचालय इत्यादी की व्यवस्था  की निगरानी करना व उसे उपलब्ध करवाना और महिला  चेतना की जिम्मेदारी है वो भी विद्यालय की निगरानी और बस्ती में सभी बच्चों का नामांकन हो इसमे सहयोग करे।

महिला अधिकार व महिला हिंसा के प्रति जागरूक करते हुए उपस्थित महिलाओं को संबोधित करते हुए मिशन शक्ति प्रभारी किरन यादव ने कहा कि महिलाओं के साथ यदि किसी भी प्रकार की हिंसा हो रही हो तो आप 1090, 181,112 नम्बर पर फोन करे आपकी सुविधा के लिये हर थांने में मिशन शक्ति के तहत महिला हेल्प डेस्क  बनाया गया है जिसमें महिला पुलिस ही रहती है आप निसंकोच अपना शिकायत कर सकती है,तथा रोहनिया थाना भ्रमण कराकर   उन्हें थाना के गतिविधियों  रिपोर्ट लिखने, महिला डेस्क  सेंटर दिखाया गया जिससे कि वो यहां आकर भी निसंकोच अपनी शिकायत दर्ज करवा  सके।कार्यक्रम में देलहना, रामपुर, बेटाबर, माधोपुर केशरीपुर, फरीदपुर मंडाव, हरिहरपुर समेत 17 ग्राम पंचायतों से दर्जनों एस एम सी व महिला चेतना समिति सदस्यों की भागीदारी रही । महिला अधिकार व महिला हिंसा पर मिशन शक्ति रोहनियां टीम किरन यादव,विपिन ,पूजा व चन्दा तथा लोक चेतना समिति से रचना ,कन्हैया, शर्मिला, प्रियंका व जिला समन्वयक सुजीत  जी की प्रशिक्षक के रूप में मुख्य भूमिका रही।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button