Breaking News

नैनो यूरिया का उपयोग एवं नरवाई नहीं जलाने पर विशेष ध्यान दिया जाए : कलेक्टर डॉ पंकज जैन

मनावर । धार – (शाहनवाज शेख) यूरिया एवं डीएपी की कमी नहीं हो इस हेतु नियमित मॉनिटिंरिंग कर आवश्यकता अनुसार मांग नियमित वरिष्ठाय को भेजे। निर्धारित दरे अनुसार ही उर्वरक का विक्रय हो। यदि किसी निजी विक्रेता द्वारा अधिक दरो पर खाद का विक्रय किया जाता है तो उनके विरूद्ध सख्त कार्यवाही की जावे। यह निर्देश Collector Dhar डॉ पंकज जैन ने कलेक्टर कक्ष में आयोजित कृषि एवं सबद्व विभाग की बैठक के दौरान दिए। उन्होंने कहा कि विभागीय अमला सभी अनुभाग में नैनो यूरिया की जानकारी का प्रचार-प्रसार कर कृषकों को इसकी जानकारी दी जाए। किसान खेत पाठषाला में किसानों को नरवाई जलाने के दृष्परिणाम के बारे में बताया जाए। ग्राम स्तर पर कोटवार द्वारा डोन्डी पिटवाकर नरवाई न जलाने के संबध में मूनादी करवाई जाए।

     बैठक में उन्होंने कहा कि परियोेजना संचालक आत्मा नरवाई नहीं जलाने हेतु अपने अधीन अमले को भी प्रचार-प्रसार कराना सुनिश्चित करें। उद्यानिकी विभाग प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना एवं प्लास्टिक लाईनिंग की लक्ष्य पूर्ति समय सीमा में करें। विभाग अन्तर्गत औषधिय फसलों अश्वगंधा, स्टीविया, आंवला आदि पौधें लगाने हेतु किसानों को अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करें। सीताफल हेतु प्रसंस्करण के लिए उद्योग ईकाई स्थापित करने हेतु अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार करें।  पशुपालन विभाग राष्ट्रीय कृत्रिम  गर्भाधान कार्यक्रम एवं पशुधन बीमा अन्तर्गत लक्ष्य अनुसार पूर्ति करें। मत्स्य विभाग मछुऑ क्रेडिट कार्ड का पूर्ण वितरण करें । सहकारिता विभाग द्वारा अकेक्षण पैक्स, भू-अभिलेख पोर्टल पर समितियों ऋणों की प्रविष्टियॉ एक सप्ताह के अन्दर पूर्ण कराने एवं शेष किसानों के क्रेडिट कार्ड जारी करें।
    
        कलेक्टर डॉ जैन ने निर्देश दिए कि अधिकारी अपने अधीनस्थ अमले द्वारा नरवाई नहीं जलाने हेतु किसानों को जागरूक करें। जिससे भूमि की उर्वरा शक्ति के साथ-साथ पर्यावरण प्रदुषण को रोका जावे तथा उन्नत कृषि यंत्रों (रीपर कम बाइंडर, स्वचलित रीपर, कम्बाईन हार्वेस्टर विथ एसएमएस) का उपयोग फसल की कटाई में करें। हारवेस्टर द्वारा की गई फसल कटाई के पश्चात स्ट्रॉरिपर का उपयोग कर खेत में बची हुई नरवाई का उपयोग भूसा बनाकर पशुओं को खिलाने में उपयोग किया जाए।

बैठक में दी गई नैनो यूरिया की जानकारी

      बैठक में बताया गया कि किसानों को नैनो यूरिया का उपयोग किया जाने पर वर्तमान में प्रचलित दानेदार यूरिया की तूलना में 8-10 प्रतिशत तक का उपज में लाभ प्राप्त कर सकते है । नैनो यूरिया के उपयोग से पौधों में नाइट्रोजन उपयोग क्षमता बढने से फसल की उपज एवं गुणवत्ता में भी वृद्धि होती है। नैनो यूरिया उन सभी फसलों के लिए उपयोगी है। जिसमें नाइट्रोंजन की आवश्यकता होती है। नैनो यूरिया एक बोतल (500 मिलीलीटर जिसकी किमत 240 रू. है।) दानेदार यूरिया एक बैंग (45 किलो ग्राम 266.50 रू.) के बराबर है, जो कि दानेदार यूरिया की तूलना में 10 प्रतिशत कम व्यय के साथ ही सुगम परिवहन एवं भण्डारण खर्चो में अत्यधिक कमी है। जिन किसानों को नैनो यूरिया की आवश्यकता है वह इफको बाजार अनारद जिला धार एवं इफकों कृषि सेवा केन्द्र धार मण्ड़ी प्रागण में भी उपलब्ध है।
     
       बैठक में बताया गया कि जिले में फसल कटाई यंत्र (रीपर कम बाइंडर, कम्बाईन हार्वेस्टर विथ एसएमएस) विकासखण्ड धार में 10, तिरला 3, बदनावर 10, सरदारपुर 2, मनावर 4, धरमपुरी 1, उमरबन 3, कुक्षी 1 एवं निसरपुर 1 इस प्रकार कुल 35 से भी अधिक यंत्रों का उपयोग किसानों से सम्पर्क कर फसल कटाई यंत्रों को किराए पर लिया जाकर फसल कटाई करवा सकते है। इसके लिए विकासखण्डों के यंत्र संचालको का मोबाईल न. कृषि विभाग में दुरभाष  नम्बर 07292-222285 से सम्पर्क कर जानकारी ले सकते है।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button