Breaking News

नगर में बायपास सड़क न बनने के कारण प्रतिदिन ट्रैफिक जाम की समस्या आम’

मेप, मनावर

बड़े रिंग रोड से ही ट्रैफिक की समस्या से मिलेगा छुटकारा, जो सभी मुख्य मार्गों को बाहरी हिस्से से जोड़ें

मनावर। मप्र – (शाहनवाज शेख) आम जिंदगी में रोजमर्रा का जीवन जीने वाले व्यक्ति जो प्रतिदिन नगर में ही रहकर अपने कार्य को पूर्ण करते हैं। जिन्हें नगर में चलने के लिए अच्छी सड़क का सुख भी प्राप्त नहीं है। एक तरफ नगर की सभी सड़कें जर्जर और क्षतिग्रस्त हो रखी है, जिनका न तो नया निर्माण हो रहा, ना ही रखरखाव पर कोई ध्यान दिया जा रहा है। परिणाम स्वरूप आज नगर की स्थिति ऐसी है किसी भी मार्ग की ओर चला जाए जहां टूटी फूटी सड़कें और गड्ढे पर्याप्त मात्रा में दिखाई देंगे। यहां तक की नगर का मुख्य गांधी चौराहे से धार रोड की ओर जाने वाली सड़क की स्थिति ऐसी हो रखी है जैसे नगर का कोई जिम्मेदार ही नहीं हो।

        नगर की जनता ऐसे हालातों में भी अपना जीवन गुजार रही है, यहां तक भी ठीक था बात वहां आकर रुक जाती है जब नगर में एशिया के स्तर के बड़े उद्योग (सीमेंट प्लांट) का निर्माण हो चुका है। नगर के समीप गंधवानी विधानसभा के जिराबाद में भी एक विशालकाय फैक्ट्री का निर्माण हुआ। जिसके बाद यातायात भी बढ़ने लगे प्रदेश के कई शहरों तथा अन्य प्रदेशों तक वाहनों का आवागमन बढ़ने लगा। मनावर से होकर गुजरात, महाराष्ट्र और राजस्थान जाने वाले तीन प्रमुख मार्ग है, लेकिन इन मार्गों के लिए नगर में कोई बाय पास उपलब्ध नहीं, जिसकी वजह से नगर की जनता ट्रैफिक जाम की समस्या से ऊब चुकी है। प्रतिदिन सड़कों पर लगने वाली लंबी लंबी कतारें, रेंग रेंग कर चलने वाला ट्राफिक यह गवाही दे रहा है कि इस क्षेत्र में किसी भी जिम्मेदार व्यक्ति का इस ओर कोई ध्यान नहीं।
       
        नगर से होकर गुजरने वाला 70% बाहरी ट्रैफिक रहता है, जिन्हें नगर से होकर गुजरना पड़ता है, अगर प्रदेश सरकार द्वारा इस समस्या का समाधान करते हुए बड़े स्तर पर बाईपास सड़क का निर्माण किया जाए तो नगर में ट्रैफिक जाम की समस्या से छुटकारा तो मिलेगा ही यहां के लोगों का जीवन दुर्घटनाओं को लेकर सुख शांति बनी रहेगी। क्योंकि सीमेंट, कोयला, बालू रेत व अन्य सामग्री लेकर आने जाने वाले के बड़े-बड़े ट्रेलर, डंपर इसके अतिरिक्त अन्य कई छोटे-बड़े वाहन नगर के बीच मुख्य मार्ग से गुजरते हैं जहां चौड़ी सड़कें ना होने के कारण दुर्घटना का भय बना रहता है। ऐसा भी देखा गया है कि कई समय तक लोग ट्रैफिक में उलझे रहते है, बड़े ट्रेलरों को मुड़ने में भी समस्या होती है और नगर के मुख्य गांधी चौराहे पर जाम लगा रहता है जिससे नगर के लोगों का आम जीवन भी प्रभावित हो रहा है।
       
        शुक्रवार को नगर में हाट बाजार लगता है जिसमें आसपास के ग्रामीण खरीदी बिक्री के लिए नगर में आगमन करते हैं। कई छोटे बड़े व्यापारी भी शुक्रवार को अस्थाई दुकानें भी लगाते हैं जिससे नगर के ट्राफिक बिल्कुल चौक होने लगता है, क्योंकि नगर में प्रतिदिन गुजरने वाला ट्रैफिक वही रहता है साथ ही ग्रामीणों का आवागमन बाजार हाट को लेकर नगर की जनता का भी खरीदी बिक्री करने जाना मानो एक दिन के लिए सड़क बंद का रूप ले लेती है यह तो गनीमत है कि नगर के पुलिस प्रशासन द्वारा प्रति शुक्रवार सतर्कता से ग्रामीणों की दुकानों को मुख्य मार्गों पर न लगने देकर कोशिश यही रहती है कि नगर के अन्य स्थानों पर दुकानें लगाई जाए। ताकि यातायात प्रभावित ना हो परंतु यह भी कोई उचित समाधान नहीं। क्योंकि बायपास सड़क बनने से बाहरी ट्राफिक कम होने लगेगा, यात्री नगर में प्रवेश न करते हुए बाईपास सड़क का उपयोग करने लगेंगे। और फिर नगर के लोगों के चलने के लिए यह सड़के पर्याप्त रहेगी।

कैसी हो बाईपास सड़क।

मनावर धार जिले की बड़ी तहसील होने के साथ-साथ बड़े उद्योगों वाला शहर बनते जा रहा है, जहां अरबों रुपए की लागत से उद्योगों के निर्माण हो रहे हैं। हाल फिलहाल अल्ट्राटेक सीमेंट फैक्ट्री क्षेत्र के लिए एक बड़ा उद्योग है जहां से हजारों टन सीमेंट और कच्चा माल प्रतिदिन बाहरी क्षेत्रों के लिए प्रस्थान होता है। इसके अतिरिक्त कई प्रकार का मटेरियल भी फैक्ट्री में आना होता है जिसे बड़े-बड़े ट्रक ट्रेलर लेकर आते जाते हैं। क्षेत्र में खेती का भी एक बड़ा व्यापार है जहां से फसलों के रूप में अनाज सब्जियां एवं कपास तथा अन्य उगने वाली सामग्री बाहरी क्षेत्रों में जाती है। नगर में 150 से अधिक बसों का प्रतिदिन आना और जाना रहता है, इसके मद्देनजर मनावर में एक बड़े रिंग रोड बाईपास की आवश्यकता है जो मनावर से धरमपुरी रोड़, बड़वानी रोड़, सेमल्दा रोड़, बाग व धार रोड़ एवं उमरबन की ओर जाने वाले मुख्य मार्ग जोड़े। और यह लिंक रिंग रोड से ही संभव है जो पूरे नगर की सभी मुख्य सड़कों को जोड़ें ताकि बाहर का व्यक्ति नगर में न आते हुए किसी भी मुख्य रोड पर सीधा निकल जाए। जिससे नगर में ट्रैफिक की समस्या लगभग कम हो जाएगी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button