Breaking News

थानाध्यक्ष शमसाबाद ने पेश की मानवता की अनोखी मिसाल

आसिफ़ राजा ब्यूरो

शमशाबाद फर्रुखाबाद। कौन कहता है पुलिस का चेहरा खूखार होता है हां होता है लेकिन जितना खूंखार होता है उतना दरिया दिल भी क्योंकि पुलिस बिभाग अगर अपराधियों के खिलाफ सख्त रवैया बनाती तो वे कहीं कहीं दरियादिली भी जो आम जनता की।नजर में प्रशंसनीय है ऐसा ही मामला शमशाबाद थाना क्षेत्र की गंगा कटरी में सोमवार को देखा गया जहां अपराधियों की धरपकड़ अभियान के लिए गुजर रहे प्रभारी थानाध्यक्ष शमसाबाद ने मानवता का परिचय देकर क्षेत्र में घूम रहे आवारा लाचार गायों को दाना खिलाकर मानवता की मिसाल पेश की मालूम रहे शमशाबाद क्षेत्र की गंगा कटरी के इलाकों में अधिकांश आवारा गोवंश भ्रमण करते हुए देखे जा रहे हैं हकीकत को देखा जाए तो इस क्षेत्र में भ्रमण करने वाले गोवंश जिन्हें किसानों द्वारा ही छोड़ा जाता है क्योंकि कहावत है कि जब तक गोवंश दूध देते हैं तब तक तो किसानों के मित्र होते और जब दूध देना छोड़ देते हैं तो वही गोवंश उनका दुश्मन हो जाते फिर उन्हें घरों पर चारा खिलाना तो दूर रखना भी दुश्वार हो जाता है ऐसे लोग देर सबेर रात्रि के अंधेरे में वाहनों के जरिए गोवंश लाते और कटरी क्षेत्र में छोड़कर फरार हो जाते हैं।

पेट की खातिर भटकने वाले गौ वंश जब किसानों के खेतों में जाते हैं तो बही किसान लाठी-डंडों के सहारे दौड़ाते हैं कुछ किसान फसलों की सुरक्षा के लिए खेत के चारों ओर कटीले तारों की बाड़ लगाते हैं लेकिन पापी पेट का सवाल खतरों को भी नजरअंदाज कर घुसने की कोशिश करते है ओर घायल हो जाते हैं जिनका कहाबत जिसका कोई नहीं भगवान होता है भगवान का एक रूप और भी है बो शायद पुलिस विभाग जो आजकल कहीं ना कहीं किसी दिन किसी गरीब असहाय व्यक्तियों के साथ साथ बेजुबानों के लिए एक आसरा बना हुआ है सोमवार को ढाई घाट शमशाबाद की गंगा नदी के किनारे विचरण करने वाले आवारा गो बंशो को प्रभारी थानाध्यक्ष शमसाबाद द्वारा दाना खिलाया गया लोगों से अपील की गई गोवंश का पालन कर सुख समृद्धि का माध्यम अपनाएं प्रभारी थानाध्यक्ष शमसाबाद किनीस इस दरिया दिली को देख लोगों ने यही चर्चाए थी अगर पुलिस का चेहरा खूंखार है तो खूंखार चेहरे के पीछे मानवता का भी प्रभारी थानाध्यक्ष शमसाबाद मनोज कुमार भाटी के अलावा उप निरीक्षक राजेश गौतम कांस्टेबल सिंधु तथा अनुज आदि लोग मौजूद रहे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button