Breaking News

कोरोना संभावित तीसरी लहर और ओमिक्रोन को लेकर अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए

धार। मप्र – जिले के प्रभारी मंत्री डॉ प्रभुराम चौधरी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कोविड 19 की तैयारियों को लेकर जिला क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठक ली। बैठक में कोरोना संभावित तीसरी लहर और ओमिक्रोन को लेकर अधिकारियों को दिशा निर्देश दिए। यहां कलेक्ट्रेट सभागार में कलेक्टर डाॅ पंकज जैन, अपर कलेक्टर सलोनी सिडाना कमेटी के सदस्य मौजूद थे। वीसी के माध्यम से विधायक नीना वर्मा जनप्रतिनिधिगण और समाजसेवी जुडे थे।
   मंत्री डाॅ चौधरी ने कहा कि 15 से 18 साल के बच्चों के वैक्सीनेशन की तैयारी कर लें। युद्ध स्तर पर तेजी से 3 जनवरी से वैक्सीनेशन करना है। महाअभियान के रूप में 15 से 18 वर्ष के बच्चों का वैक्सीनेशन करें। प्राथमिकता के साथ इस कार्य में जुट जाये। लांचिंग के दौरान वैक्सीनेशन की अपील हो। 60 वर्षीय व्यक्तियों को बूस्टर डोज लगाने के लिए च्वाईस पर निर्भर है। फीवर क्लीनिक चालू कराये जाये।  क्राइसिस मैनेजमेंट कमेटी की बैठकें जहाँ नहीं हुई हैं, वहाँ जल्द कराई जाये। आमजन को फेस मॉस्क के लिए प्रेरित किया जाए। रोको-टोको अभियान जारी रहे। अनावश्यक भीड़ वाले आयोजनों से बचा जाए। गरीब की रोजी-रोटी चलती रहे, आर्थिक स्थिति प्रभावित न हो। कोविड केयर सेंटर की व्यवस्थाएँ अच्छी रहे। ऑक्सीजन, पीएसए प्लांट क्रियाशील रहें, एलएमओ टैंक की व्यवस्था भी देख लें। दवाइयों की एक महीने की व्यवस्था रहे।
      मंत्री डाॅ चौधरी ने निर्देश दिए कि  अनुभाग स्तर की बैठक लेकर 15 से 18 वर्ष के बच्चों के वैक्सीनेषन के लिए समूचित तैयारियाॅ सुनिश्चित कर ले।  इसमे  जिले को जो लक्ष्य प्राप्त हुआ उसे समयसीमा में पूर्ण किया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि जिले के सभी शासकीय/अशासकीय स्कूल के बच्चों का वैक्सीनेशन किया जाए। इसके साथ ही ड्राप आउट बच्चो का भी वैरिफिकेशन कर लिस्ट तैयार की जाए। 
    उन्होंने कहा कि यह कार्य रेगुलर वैक्सीनेशन कार्य से सेपरेट किया जाए, इसके लिए सेपरेट सेषन साईट तैयार की जाए। यह सुनिष्चित किया जाए कि दोनो साईट मर्ज न हो। 15 से 18 वर्ष के बच्चों को कोवैक्सीन लगाई जाना है। यह सम्पूर्ण टारगेट 15 जनवरी के पहले  किया जाना है। इसके लिए पहले स्कूली बच्चो को पहले टारगेट किया जाए। इसके बाद दूसरो बच्चो को आईडेन्टीफाई कर वैक्सीनेशन किया जाए। सेशन ऐसे आयोजित किए जाए जिससे आस-पास के स्कूल के बच्चो का भी वहाॅ वैक्सीनेशन किया जा सके। इसके लिए पूरी तत्परता से कार्य किया जाए।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button