Breaking News

स्टेट प्रेस क्लब और दैनिक सांध्य 6 pm के संयुक्त तत्वावधान में किये गए कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में केरल के राज्यपाल मोहम्मद आरिफ़ खान ने शिरकत की।

कार्यक्रम के दौरान समाज की कई हस्तियों को उनकी योग्यता के लिए सम्मानित किया, जिसमे मरीना शेख भी शामिल रही।

नई दिल्ली :- स्टेट प्रेस क्लब ओर दैनिक सांध्य 6 pm के संयुक्त तत्वावधान में शहर के एरोड्रम रोड़ स्थित लुणावत वेयरहाउस प्रांगण में शुक्रवार को समाचार पत्र के सफल 16 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में राष्ट्रीय परिसंवाद व इंदौर गौरव सम्मान कार्यक्रम का विशेष आयोजन किया। जिसके मुख्य अतिथि केरल के राज्यपाल मोहम्मद आरिफ खान रहे एंव संजय लुणावत व प्रवीण खारीवाल द्वारा कार्यक्रम का आयोजन किया।

सर्वप्रथम दीप ज्वलन कर कार्यक्रम की शुरुआत की गई, कार्यक्रम में मुख्य अतिथि राज्यपाल मोहम्मद आरिफ खान तथा स्टेट प्रेस क्लब के अध्यक्ष प्रवीण खारीवाल, 6 pm के चेयरमैन संजय लुणावत आदि मंचासीन रहे। जिनका वरिष्ठ जनों ने पुष्प गुच्छ भेंट कर स्वागत सम्मान किया। कार्यक्रम में वरिष्ठ पत्रकार, समाजसेवी व शहर के व्यवसायिक लोग उपस्थित थे, जिन्हें अपनी योग्यता व कोरोना काल मे बेहतर सेवा के लिए राज्यपाल श्री आरिफ़ खान द्वारा प्रतीक चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

कार्यक्रम के दौरान राज्यपाल मोहम्मद आरिफ खान ने उर्दू और संस्कृत का उल्लेख करते हुए अपने उद्बोधन में कहा कि देश आजादी महोत्सव 75 वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर मना रहा है। लेकिन असली आजादी क्या है यह किसी को पता नहीं, उन्होंने कहा कि असली आजादी एक दूसरे व्यक्तियों में प्रेम की भावना पैदा होना आजादी है और तेरा मेरा करना वाले भाव गुलामी है।

संजय लुणावत ने अपने उद्बोधन में कहा कि देश आजाद हो चुका है मगर दिखाई नहीं देता, लोगों को आर्थिक आजादी चाहिए। उन्होंने कहा कि हम मिडिल पॉइंट में काम करते हैं हमें किसी पार्टी से कोई मतलब नहीं, हम जनता से ज्यादा मतलब रखते हैं और जनता के लिए काम करते हैं। उनके मुद्दों को शासन प्रशासन तक पहुंचाना पत्रकार का काम है जो हम करते है, जिसमें कई बार हमारा नुकसान भी हो जाता है। साथ ही प्रवीण खारीवाल ने भी उद्बोधन दिए।

इसी के साथ मंच पर सम्मानित हुई मरीना ने ने बताया कि उन्होंने RWF की स्थापना की, जो जल्द ही भारत के प्रमुख COVID-राहत संगठनों में से एक बना

मरीना शेख द राइजिंग वर्ल्ड फाउंडेशन की संस्थापक और अध्यक्ष हैं, जो भारत के सबसे कमजोर समुदायों पर COVID-19 के प्रभाव से राहत के लिए समर्पित एक गैर-लाभकारी धर्मार्थ संगठन है। उनके नेतृत्व में, राइजिंग वर्ल्ड फाउंडेशन ने भोजन राशन किट और स्वच्छता आपूर्ति वितरित करके पूरे भारत में हजारों लोगों की मदद की है। मरीना एक अनुभवी सामाजिक आयोजक और अंतरराष्ट्रीय अनुभव के साथ परोपकारी हैं। उन्होंने ब्रसेल्स में अपना कॅरियर शुरू किया, पूर्व यूरोपीय संसद सदस्य नीरज देवा के अधीन काम किया। मरीना ने विशेष सहायक और अंततः सलाहकार के रूप में काम करने से पहले एक प्रशिक्षु के रूप में शुरुआत की। यूरोपीय संसद में काम करते हुए, मरीना एलायंस ऑफ कंजरवेटिव्स एंड रिफॉर्मिस्ट्स इन यूरोप (ACRE) के लिए एक महत्वपूर्ण संचालक बन गई। उन्होंने तुर्की, आर्मेनिया, इटली और संयुक्त राज्य अमेरिका में सम्मेलनों में एक प्रतिनिधि के रूप में ACRE का प्रतिनिधित्व किया, जबकि प्रमुख ACRE मानवीय परियोजनाओं पर भी काम किया, जैसे कि एथेंस ग्रीस में प्रैक्सिस संगठन। प्रैक्सिस के माध्यम से मरीना ने पूरे यूरोप में कमजोर आबादी को आर्थिक, सामाजिक और चिकित्सा सहायता प्रदान करने में चैरिटी और सरकारी प्रतिनिधियों की सहायता की। मरीना ने हमेशा विदेश में सम्मानित राजनीतिक और मानवीय कौशल को अपने देश में वापस लाने की योजना बनाई, और वह एसीआरई भारत के महानिदेशक के रूप में ऐसा करने में सक्षम थी, जिस पद वह दो साल तक रही। महामारी की चपेट में आने के बाद, मरीना ने खुद को अलग कर लिया – RWF की स्थापना की, जो जल्द ही भारत प्रमुख COVID-राहत संगठनों में से एक बन गया। मरीना का जन्म इंदौर शाहीन और नसीम शेख के घर हुआ था। मुंबई के नेशनल कॉलेज से करने से बीए करने से पहले उन्होंने इंदौर के डेली कॉलेज में पढ़ाई की।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button