Breaking News

लता मंगेशकर : भारतीय पत्रकार संघ (एआइजे) द्वारा श्रद्धांजलि अर्पित, उनके निधन पर किसने क्या कहा।

नाम गुम जाएगा, चेहरा ये बदल जाएगा…

इंदौर। मप्र – सुरों की मलिका, खुश रंग हिना और भी जितने नाम काहे जाए मध्यप्रदेश के इंदौर में जन्मी लता मंगेशकर के लिए कम है। भारतीय सिने जगत की स्वर कोकिला नाम से मशहूर गायिका लता मंगेशकर का निधन हो गया है। एक माह पहले ही उन्हें कोरोना संक्रमित पाए जाने के बाद मुंबई के ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। रविवार सुबह लता मंगेशकर ने 92 वर्ष की उम्र में अंतिम सांसें लीं। इसके बाद सोशल मीडिया पर भारत ही नहीं दूसरे देशों में भी ग़म का माहौल है। जानें, लता मंगेशकर के निधन पर किसने क्या कहा –

पीएम मोदी ने लिखा भावुक नोट :

पीएम मोदी ने सिलसिलेवार कई ट्वीट कर अपना दुख साझा किया है। पीएम मोदी ने लिखा है, “मैं अपनी पीड़ा को शब्दों में नहीं कह सकता। दयालु और देखभाल करने वाली लता दीदी हम सबको छोड़कर चली गईं। उनके जाने से देश में ख़ालीपन आ गया है, जिसे भरा नहीं जा सकता। आने वाली पीढ़ियां उन्हें भारतीय संस्कृति की एक दिग्गज के रूप में याद करेंगी, जिनकी सुरीली आवाज़ में लोगों को मंत्रमुग्ध करने की अद्वितीय क्षमता थी।” पीएम मोदी ने बताया है कि लता मंगेशकर फ़िल्मों के अलावा हमेशा भारत के विकास को लेकर भी सोचा करती थीं। उन्होंने लिखा, “लता दीदी के गाने कई तरह की भावनाओं से भरे थे। उन्होंने दशकों तक करीब से भारतीय सिनेमा जगत के बदलावों को देखा। फ़िल्मों के अलावा, वह हमेशा भारत के विकास को लेकर भी सोचती थीं। वह हमेशा एक मज़बूत और विकसित भारत देखना चाहती थीं।”

भारतीय पत्रकार संघ (एआइजे) की शोक संवेदना

भारतीय पत्रकार संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष विक्रम सेन ने स्वर कोकिला के नाम से जाने वाली गायिका लता मंगेशकर जी के दुखत निधन पर शोक संवेदना प्रकट की। उन्होंने “नाम गुम जाएगा चेहरा ये बदल जाएगा..” जैसे गीतों को सोशल मीडिया पर वायरल किया। श्री सेन ने कहा भारत की स्वर कोकिला महान लता मंगेशकर जी का निधन भारत में संगीत के एक युग की समाप्ति है। उनकी सुरीली आवाज हम सबके बीच और पूरी दुनिया में सदा अमर रहेगी। प्रभु से प्रार्थना है कि दिवंगत पुण्यात्मा को अपने श्री चरणों में स्थान दें। पत्रकार संघ की ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित। ओम शांति

बांग्लादेश से शोक संदेश :

बांग्लादेश के राष्ट्रपति अब्दुल हमीद और प्रधानमंत्री शेख़ हसीना ने लता मंगेशकर के निधन पर शोक प्रकट किया है। बांग्लादेश के विदेश मंत्रालय ने भी एक संदेश जारी कर लिखा है- “प्रख्यात गायिका लता मंगेशकर ने संगीत के लिए जो अमूल्य योगदान दिया उससे वो ना केवल भारत, बल्कि पूरे उपमहाद्वीप और सारे विश्व में लोगों के दिलों में बसी रहेंगी।”

नेपाल की राष्ट्रपति का संदेश :

नेपाल की राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी ने लता मंगेशकर को श्रद्धांजलि दी है। उन्होंने लिखा है- ढेरों नेपाली गीतों को अपनी सुमधुर आवाज़ से सजाने वाली भारत की प्रख्यात गायिका लता मंगेशकर के निधन की ख़बर से दुखी हूँ। असाधारण प्रतिभा की धनी दिवंगत लता मंगेशकर को भावपूर्ण श्रद्धांजलि।

जर्मन राजदूत की श्रद्धांजलि :

भारत और भूटान में जर्मनी के राजदूत वॉल्टर जे. लिंडनर लिखते हैं, “मेरी आवाज़ ही, पहचान है…गर याद रहे.. गायिका और संगीत की प्रतिभा का 92 साल में की उम्र में निधन हो गया। सात दशकों तक संगीत की संस्थारूपी महान गायिका, अनमोल आवाज़. बेहद दुखद ख़बर…उनकी विरासत हमेशा ज़िंदा रहेगी..”

पाकिस्तान ने भेजा शोक संदेश :

लता मंगेशकर के निधन पर पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की सरकार में सूचना प्रसारण मंत्री ने भी दुख ज़ाहिर किया है। चौधरी फ़वाद हुसैन ने ट्वीट किया, “एक महान गायिका नहीं रहीं। लता मंगेशकर सुरों की रानी थीं जिन्होंने दशकों तक संगीत की दुनिया पर राज किया। वह संगीत की बेताज रानी थीं। उनकी आवाज़ आने वाले समय में भी लोगों के दिलों पर राज करती रहेगी।”

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button