Breaking News

AICC ने पूर्व मंत्री उमंग सिंघार को गुजरात राज्य का सह प्रभारी बनाया, जाने नए दायित्व से कांग्रेस को क्या फायदा होगा।

फ़ाइल फोटो

नई दिल्ली :- (एम. बेगम) बीते दिनों 25 मार्च शुक्रवार को कांग्रेस ने अपने तीन राष्ट्रीय सचिवों उमंग सिंघार, वीरेंद्र सिंह राठौर और बीएम संदीप को उनके वर्तमान उत्तरदायित्व से मुक्त करके गुजरात राज्य की जिम्मेदारी सौंप दी है। पार्टी की ओर से जारी बयान के मुताबिक, अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के ये तीनों सचिव अब कांग्रेस के गुजरात प्रभारी रघु शर्मा के साथ काम करेंगे।

सिंघार अब तक झारखंड, राठौर बिहार और संदीप महाराष्ट्र में पार्टी प्रभारियों के साथ काम कर रहे थे। कांग्रेस ने गुजरात के लिए रामकिशन ओझा के तौर पर एक और सचिव की नियुक्ति की है। वह भी रघु शर्मा के साथ प्रदेश में काम करेंगे। पार्टी ने गुजरात में काम कर रहे अपने दो सचिवों जितेंद्र बघेल और बिश्वरंजन मोहंती को उनके उत्तरदायित्व से मुक्त किया है।

ज्ञात हो गुजरात में इस साल के आखिर में विधानसभा चुनाव होना है। और गुजरात मध्य प्रदेश की सीमा से लगी हुई कई विधानसभा ऐसी भी है जो आदिवासी बाहुल्य विधानसभा कहलाती है। उमंग सिंगार मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री एवं गंधवानी विधानसभा के विधायक होने के साथ-साथ एक आदिवासी नेता भी हैं। जो आदिवासी बहुल क्षेत्र में अपनी पकड़ जमाए हुए हैं। सूत्रों की माने तो मध्य प्रदेश के अगले प्रदेश अध्यक्ष के रूप में भी उन्हें देखा जा सकता है? फिलहाल अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी नई दिल्ली द्वारा उन्हें आगामी विधानसभा चुनाव के लिए गुजरात राज्य का सह प्रभारी नियुक्त किया।

ज्ञात हो कि पूर्व में विधानसभा चुनाव के दौरान झारखंड राज्य के सह प्रभारी के रूप में भी उमंग सिंघार पार्टी के लिए काम कर चुके हैं जिसकी सफलता के बाद पूरे देश भर से तारीफें बटोरी थी एवं शुभकामनाएं और बधाईयों का संदेश मिला था। पूर्व मंत्री उमंग सिंघार के इस नए दायित्व को मिलने के बाद कार्यकर्ताओं में भी हर्ष का माहौल रहा। उमंग सिंगार के करीबी साबिर शेख, राजेश पवार, शुभम अजमेरा, स्वतंत्र जोशी, प्रतिनिधि सतपाल सिंह, ओम सोलंकी, पूर्व पार्षद अख्तर बी, महेंद्र सिंह पिपरीमान, हरीश खंडेलवाल, राधेश्याम मूवेल, इरफान मलिक आदि कार्यकर्ताओं ने श्री सिंघार को नए दायित्व के लिए बधाई और शुभकामनाएं दी।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button