Breaking News

टीआरआईएफ संस्था द्वारा जनपद सभाग्रह में आयोजित किया मनरेगा महिला मेट संवाद कार्यक्रम

मनावर : मप्र । ट्रांसफॉर्मर रुरल इंडिया फाउंडेशन एवं सहयोगी समर्थन संस्था के द्वारा ग्राम पंचायत में ग्रामीण आजीविका मिशन के साथ साझा पहल के तहत ग्राम विकास एवं महिला आर्थिक सशक्तिकरण के लिए कार्य कर रही है। शासन के आदेश अनुसार लगभग मनरेगा में लगभग 50% महिला मेट होना आवश्यक है।महिला मेट की चयन प्रक्रिया ग्राम सभा के माध्यम से होती है। नगर के पुराने जनपद सभागृह में आयोजित आज के इस कार्यक्रम में महिलाओ को मेट के रूप में महिलाओ द्वारा किये गये कार्यो एवं कार्यो को करने में जो चुनौतिया आ रही है उनको साझा कर निराकरण करने का प्रयास किया गया। जनपद से एपीओ सोलंकी द्वारा महिला में की भूमिका, कार्यो एवं जिम्मेदारियों को बताया गया की मनरेगा योजना 2005 के अनुसार वित्त्तीय वर्ष में जॉब कार्ड धारी परिवार को 100 दिन का रोजगार दिया जाता है। मेट एक अर्द्धकुशल श्रमिक है जिनके कार्य एनएमएमएस के माध्यम से उपस्थिति दर्ज करना, कम से कम 20 एवं अधिकतम 40 मजदूरो पर उपस्थिति होती है एवं उपस्थिति सुबह शाम लेना। मजदूरो द्वारा कार्य की मांग करने पर कार्य खुलवाना, धात्री माताओ एवं विकलांग व्यक्तियों को कार्य देना। सुचना पटल पर जानकारी का विवरण पूरा करना आदि मनरेगा मेट के कार्य है।

इसके अलावा मनरेगा के नियमो को बताया गया जैसे मनरेगा मेट के पास एंड्राइड मोबाइल होना आवश्यक है। बिना ले आउट के कार्य नही करना होता है, सात घंटे का कार्य पूर्ण करना, मनरेगा मजदूरी भुगतान 204 रु. प्रतिदिन होता है। कार्य की मांग के लिए महिला मेट स्वयं को जागरूक रहना तथा सचिव सरपंच के कार्य की मांग करते रहना चाहिए। इस तरह का संवाद कार्यक्रम जनपद स्तर पर प्रथम बार आयोजित किया गया है आगामी समय मे भी महिला मेट की क्षमतावृद्धि के लिए कार्यक्रम का आयोजन किया जाना है। कार्यक्रम में मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद श्री डिन्डोर ने अधिक से अधिक महिला मेट को मनरेगा अंतर्गत कार्य करवाने हेतु कहा गया।

कार्यक्रम में 44 महिला मेट 41 ग्रामो से एवं टी.आर.आई. एफ संस्था से मेनेजर पल्लवी जैन, संजय भूरिया, शीतल मनाकर, स्वाति, रानी कुशवाह, ज्योति, रंजना, भूरेसिंह एन.आर.एल.एम. से भगवती प्रसाद, कुमेर सिंह, हरिचन्द्र शर्मा उपस्थित थे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button