Breaking News

देर रात मनावर में झमाझम बारिश के साथ विद्युत विभाग की व्यवस्थाओं की खुली पोल, शहर में छा रहा अंधेरा



सिर्फ बिजली बिल की वसूली करने झुंड बनाकर लोगो के घरों पर जाने में व्यस्त रहते कर्मचारी, व्यवस्थाओं पर नहीं है ध्यान ?

मनावर : मप्र –शनिवार देर रात मानसून की पहली बारिश के साथ नगर के विद्युत विभाग की व्यवस्थाएं भी डगमगाने लगी है। शुरुआती मानसून में ही तेज हवाओं के साथ पानी बरसने लगा, लगातार बरसे इस पानी से किसानों का इंतजार तो खत्म हुआ। लेकिन विद्युत विभाग की लापरवाही के नतीजे नगर की जनता को भुगतने पड़े। विद्युत विभाग के कर्मचारी बकाया बिजली का बिल वसूलने के लिए झुंड के साथ लोगों के घरों के चक्कर लगाते हैं लेकिन व्यवस्थाओं पर उनका कोई ध्यान नहीं। जिसका खामियाजा रात के अंधेरों में नगर वासियों को भुगतना पड़ रहा है।

देखा जाए तो गर्मी और सर्दी के मौसम में भी अक्सर लाइट का बंद चालू होना लगा रहता है लेकिन विभाग की जिम्मेदारी रहती है कि वह वर्षा ऋतु के लिए बेहतर व्यवस्थाएं पहले ही सुनिश्चित करें। लेकिन कर्मचारी सिर्फ लंबे चौड़े बिल देकर उन्हें वसूलने की ओर पूरा ध्यान आकर्षित करते हैं। जिसके परिणाम शनिवार देर रात को देखने को मिले। अगर विभाग समस्त नगर वासियों से बिजली के बिलों की भरपाई करवाता है तो उनका प्रथम कर्तव्य यही होना चाहिए कि उन उपभोक्ताओं को सर्व सुविधाओं के साथ सुविधा दी जाए।

शनिवार देर रात वर्षा ऋतु के पहले ही दिन विद्युत विभाग की पोल पट्टी खुल कर सामने आ गई। जिससे यह साबित होता है कि नगर में विभाग द्वारा मेंटेनेंस के कार्य को समय पर नहीं किए जाने के कारण पहली बारिश में ही परिणाम सामने आने लगे हैं। ऐसे में नगर की जनता पूरा बिल चुकाने के बाद भी सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हैं। इसका और कोई कारण नहीं विभाग द्वारा लापरवाही के परिणाम है। नगर में विद्युत विभाग द्वारा वर्षा ऋतु से पहले समस्त जॉइंट, डीपी और कनेक्शनों को जांच एवं सुधार करना चाहिए, जिससे कि बारिश के मौसम में रात के अंधेरे में जनता परेशान ना हो। रोजमर्रा का जीवन जीने वाले मिडिल क्लास व्यक्तियों के घरों में इनवर्टर जैसी सुविधाओं का अभाव रहता है वह विभाग द्वारा दिए गई बिजली के भरोसे ही अपना जीवन का गुजारा करते हैं ऐसे में विद्युत विभाग की लापरवाही के कारण वर्षा ऋतु के मौसम में रात के अंधेरों में जिन जनावर से लेकर चोरी डकैती तक की घटनाएं होने का अंदेशा रहता है। जिस से बेखबर विभाग अपनी नींद के आगोश में सोता हुआ नजर आ रहा है। अगर शुरुआती मानसून में विद्युत विभाग की इस घोर लापरवाही के नतीजे इस प्रकार होंगे तो आगे नगर वासियों का ईश्वर ही मालिक है।

विभाग के ग्रिड का नंबर भी अक्सर रहता है नॉट रिचेबल

जब नगर की जनता विद्युत विभाग की लापरवाही के कारण बंद हुई बिजली की जानकारी के लिए ग्रेट के नंबर को कॉल करती है तो अक्सर नॉट रिचेबल जैसी धुन सुनाई देती है। कभी कभी तो ऐसा लगता है कि यह हरकत जानबूझकर की जाती है जिससे की जनता को उनके सवालों का जवाब ना देना पड़े ? नगर की जनता के पास सालों पुराना लैंडलाइन नंबर 07294-232236 है। जिस पर कभी-कभी तो कॉल लग जाता है परंतु अक्सर नॉट रिचेबल ही बताया जाता है। ऐसे में जनता के पास इंतजार करने के अलावा और कोई चारा नहीं। जबकि विभाग द्वारा संपूर्ण बाहर का भुगतान समय पर कराया जाता है नहीं करने की दशा में कर्मचारी उपभोक्ताओं के घर तक पहुंच जाते हैं लेकिन उन्हें सुविधा देने के नाम पर कोई राहत नहीं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button