Breaking News

समाज को संगठित होकर हर क्षेत्र में आगे बढ़ना होगा : युधिष्ठिर कुमावत

भारतीय कुमावत क्षत्रिय महासभा (रजि.) की दो दिवसीय राष्ट्रीय मंत्रीमंडल एवं कार्यकारिणी की बैठक संपन्न, पारित हुए समाज को गति देने वाले कई प्रस्ताव

मुम्बई : (महाराष्ट्र) संगठन ही समाज का आईना होता है, जिस तरह भगवान श्रीराम ने मर्यादा पूर्वक अपना आसन ग्रहण किया और वे पुरुष से भगवान हो गए। उसी तरह समाज को संगठित होकर समाज के लिए समाज का विकास करना होगा। भारतीय कुमावत क्षत्रिय महासभा (रजि.) के राष्ट्रीय अध्यक्ष युधिष्ठिर कुमावत रविवार को भारतीय कुमावत क्षत्रिय महासभा (रजि.) के मंत्रिमंडल एवं राष्ट्रीय कार्यकारिणी बैठक के समापन अवसर पर देश भर से आए समाज बंधुओं को संबोधित करते हुए रहे कहा कि हम पीछे मुड़कर देखना नहीं चाहते, हमें आगे बढ़ना है। उन्होंने देशभर में कुमावत समाज की जनगणना पर जोर देते हुए कहा कि आने वाले समय के लिए यह अति आवश्यक है। उन्होंने समाज में शिक्षा के स्तर को ऊंचा उठाने के लिए फंड और फाउंडेशन स्थापित करने की आवश्यकता बताई ताकि आर्थिक रूप से पिछड़े बच्चों और प्रतिभाओं को अधिक से अधिक मदद दी जा सके। साथ ही महासभा के संविधान में संशोधन की भी जरूरत बताई।



नगर निगम महापौर जी. एस. टांक के मुख्य आतिथ्य में उदयपुर में शोभागपुरा-भुवाणा 100 फीट रोड स्थित होटल योइस में हुई बैठक में देश भर से आए पदाधिकारियों ने भाग लिया। नगर निगम महापौर गोविंद सिंह टांक ने कहा कि संगठित समाज ही सर्वांगीण विकास की ओर बढ़ता है। हमें मजबूत नेतृत्व के साथ नए आयाम स्थापित करने होंगे। इस अवसर पर औरंगाबाद के महापौर गजानन्द बारवाल भी थे।
राष्ट्रीय महामंत्री सूरजमल अडानिया ने महासभा के विस्तार को लेकर सभी जोनों में जनगणना व सदस्यता अभियान की जानकारी दी।

भारतीय कुमावत क्षत्रिय महासभा के राष्ट्रीय मीडिया प्रभारी संदीप कुमावत ने बताया कि रविवार सुबह 9 बजे शुरू हुई महासभा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में 16 राष्ट्रीय प्रतिनिधि मनोनीत करने, समाज में जनगणना करवाने व शिक्षा स्तर को ऊंचा उठाने के लिए अलग से फंड और फाउंडेशन स्थापित करने तथा संविधान संशोधन समिति का सर्वसम्मति से अनुमोदन किया गया। बैठक में महासभा के सफलतापूर्वक संपन्न हुए चुनाव में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले समाज के वरिष्ठ जनों का अभिनंदन किया तथा प्रमाण पत्र प्रदान किए गए। कोषाध्यक्ष गोपाल अनावङिया, वित्त मंत्री दुर्गालाल बम्बोरिया की ओर से प्रस्तुत बजट को सदन में पारित किया गया।

मुख्य चुनाव अधिकारी रामेश्वर बम्बोरिया ने निर्वाचित पदाधिकारीगणो को प्रमाण पत्र प्रदान किए। पदाधिकारियों ने अपनी आगामी वर्ष की कार्ययोजना बताई। पूर्व महामंत्री छोटूलाल बङीवाल, डा. जयनारायण जूनवाल ने पूर्व कार्यकारिणी का लेखाजोखा प्रस्तुत किया। इस अवसर पर चुनाव अधिकारी सुरेश खंडारिया, राजेश, विजय कारगवाल, महेश माहुरे आदि का सम्मान किया गया।

बैठक में वरिष्ठ उपाध्यक्ष महाराष्ट्र नासिक के हरीश दुलीचंद बहिरे, राष्ट्रीय महामंत्री सूरजमल अडानिया, जनगणना मंत्री हरिसिंह घटेलवाल, कोषाध्यक्ष गोपाल अनाडिया, सहायक जनगणना मंत्री रामकरण वर्मा, उपाध्यक्ष पूनम अजमेरा, पुणे के प्रफुल्लचंद पोपटराव, चित्तौड़गढ़ के गोपाल ओस्तवाल, दिल्ली की श्रीमती राजेश वर्मा, कार्यालय मंत्री जयपुर के भीम सिंह सिरोहिया, महिला एवं बाल कल्याण मंत्री पार्वती किरोड़ीवाल, सांस्कृतिक मंत्री प्रेमलता बाथरा, शिक्षा मंत्री टोंक के ओमप्रकाश मंडेला, सहायक शिक्षा मंत्री नंदुरबार नासिक के ओंकार कुमावत, संगठन एवं प्रचार मंत्री किशनगढ़ के बालस्वरूप बरनोटा, उज्जैन के बसंत कुमार दौराया, उद्योग कला एवं शिल्प मंत्री जयपुर के अरुण कुसुंबीवाल, कानून एवं सुरक्षा मंत्री जयपुर के इंद्र कुमार बधाणिया, अमरचंद मारोठिया, शंकरलाल मामोङिया, सहायक कोषाध्यक्ष जयपुर के शिवदयाल धुंधारिया, झालावाड़ के विक्रम राय अजमेरा, दिल्ली के रामकरण वर्मा, जालना के सत्यनारायण जाजूरे, कृषि मंत्री बारां के कमलसिंह मंडेला, जनगणना मंत्री उदयपुर के हरिसिंह घटेलवा, सहायक जनगणना मंत्री झज्झर हरियाणा के दयानंद आर्य, पुणे के विनय प्रकाश दैमीवाल ने अपनी कार्य योजना प्रस्तुत की।

बैठक में राष्ट्रीय प्रतिनिधि पुणे से सुलक्षणा नाइक, कांता देवी नाइक, अंकलेश्वर से आशा कुमावत, नासिक से श्रीकान्त विजय परदेशी, मंदसौर से कन्हैयालाल निद्रा घोड़ेला, पूनमचंद ओस्तवाल, धार से भैरूलाल मुंडेल, अहमदाबाद से मांगीलाल सारङीवाल, सौन्सरदेवी मेरावंडिया, उदयपुर से भगवती देवी खंडारिया, पन्नालाल ईन्ठारा, जगदीश चंद्र मामोङिया, सूरत से ओमप्रकाश बरमून्डा, रमेशचंद्र बातरा, गणेशलाल नाराणिया, वेणीराम सरङीवाल, गिरिराज खनाङिया, नेमीचंद छापोला, पिंकी बधानिया, नवलकिशोर बबेरिवाल, महेंद्र भौरोदिया, संतों नीमीवाल, राकेश कुमार बारवाल, गीता जूनवाल थे।

संविधान संशोधन समिति गठित

संविधान संशोधन समिति का गठन किया गया। समिति के समन्वयक हरिशंकर खंडारिया सहित गोविंद सिंह टांक, युधिष्ठर कुमावत, सूरजमल अडानिया, इंद्र कुमार बधानिया, अमरचंद मारोठिया, शंकरलाल मारोठिया, गजानंद बारवाल सदस्य हैं। इन्हें तीन माह में संविधान संशोधन की रिपोर्ट देनी होगी।

परामर्शदाता मनोनीत

मुख्य परामर्शदाता गोविंद सिंह टांक, परामर्शदाता मध्यप्रदेश से अभय मोरवाल, दिल्ली जोन से सतीश खाटूवाल, महाराष्ट्र जोन से विद्याधर मोरवाल, उत्तरी-पूर्वी जोन से बाबूलाल मारीवाल मनोनीत किए गए।

16 राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्य मनोनीत

भारतीय कुमावत क्षत्रिय महासभा (रजि.) की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में 16 सदस्य मनोनीत किए गए। इनमें उदयपुर से मदनमोहन टांक, सुषमा कुमावत, संदीप फूलचंद कुमावत (घोङेला), गिरधारीलाल सिन्घनवाल, राजसमंद से पन्नालाल कुमावत, भीलवाड़ा से प्रभुलाल घोङेला, अजमेर से बृजमोहन कुमावत, जोबनेर से अर्जुन लाल झुंझुनोदिया, जयपुर से रजनी सिरोहिया, मंगल कुंडलवाल, औरंगाबाद से नंद कुमार घोड़ेला, नंन्दूरबार से पल्लवी प्रकाशकर(मारोठिया), महिन्द्रपुर से ज्योति खनाङिया, इंदौर से दिलीप गोठवाल, राजेंद्र मोतीलाल बारीवाल, सूरत से नारायण लारणा मनोनीत किए गए।

किया सम्मान

बैठक की व्यवस्थाओं के भागीदार रहे भारतीय कुमावत क्षत्रिय महासभा दक्षिण-पश्चिम जोन अध्यक्ष रमेशचंद्र झालवार, संगठन मंत्री खेमराज अडानिया, दलपतराज बातरा, प्रदेश प्रतिनिधि पुष्कर राज सिंह, दामोदर नाराणिया, डूंगर सिंह बबेरीवाल, नगर महासभा के वरिष्ठ उपाध्यक्ष खुशवेन्द्र रेणा, महामंत्री मुकेश गोठवाल, कुमावत विकास संस्थान अध्यक्ष योगेश चौरमा, प्रवासी कुमावत क्षत्रिय समाज अध्यक्ष हरीश वर्मा, सचिव संदीप कुमावत, संयोजक रवि टांक, राहुल कुमावत, भरत कुमावत आदि का सम्मान किया गया।

आंचल ने काया जादू प्रदर्शन

बैठक के समापन अवसर पर जादूगर आंचल ने देशभर से आए समाज बंधुओं के समक्ष जादू प्रदर्शन कर आशीर्वाद लिया। आंचल का महासभा की ओर सम्मान भी किया गया।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button