Breaking News

मध्य प्रदेश की चेक पोस्ट बार्डरो पर अंधाधुन हो रही अवैध वसूली को लेकर नितिन गडकरी ने सीएम शिवराज के नाम लिखा पत्र : मुख्यमंत्री स्वयं इस मामले में सख्त और उचित कार्रवाई करें


नई दिल्ली : पिछले कई वर्षों से देखा गया है कि मध्य प्रदेश की नयागांव, सेंधवा तथा अन्य कई चेकपोस्ट बॉर्डरो पर एंट्री के नाम पर बिना किसी पर्ची दिए के अवैध वसूली की जा रही थी। जिसको लेकर कहीं बार ड्राइवर यूनियन और अन्य संगठनों द्वारा बॉर्डर पर आंदोलन भी किए गए थे, जिसके बाद कुछ दिनों तक यह एंट्री बंद हो गई लेकिन समय के रहते दोबारा शुरू कर दी जाती है। चेक पोस्ट पर तैनात कर्मी के लिए लाखों रुपए प्रति दिन की कमाई का अड्डा बन चुका है। जिसकी मार सीधी सीधी मोटर मालिक और ट्रक ड्राइवरों पर पड़ती है। बढ़ते डीजल पेट्रोल के दामों के साथ-साथ बढ़ती महंगाई को देखते हुए ट्रांसपोर्टिंग की कमाई भी कम होती जा रही है, ऊपर से बॉर्डर ऊपर अवैध एंट्री के नाम से वसूल किए जा रहे रुपयों से भी ड्राइवर और मोटर मालिक परेशान हैं।



बात करें मध्य प्रदेश की सेंधवा- शिरपुर स्थित बॉर्डर की, जिसे भारत के कई राज्यों में बड़ी चेक पोस्ट कहा जाता है जो मध्य प्रदेश को महाराष्ट्र से जोड़ती है। इस बॉर्डर पर हजारों वाहन प्रतिदिन गुजरते हैं जिसे अपने संपूर्ण दस्तावेज और गाड़ी में भरा हुआ भार का ब्यौरा देना होता है, लेकिन कई बार शिकायत मिलने पर यह देखा गया है कि इन चेकपोस्ट बॉर्डर पर एंट्री के नाम पर प्रति ट्रक के हिसाब से 1000, 2000, 25 सो रुपए तक भी वसूले जाते है। जिससे नाराज ट्रक ड्राइवर और मोटर मालिक कई बार शिकायत भी कर चुका है तो कहीं बार आंदोलन भी हुए। कई बार यह देखा गया है कि बाहरी वाहन किसी उलझन में ना फसने के लिए एंट्री देकर गुजर जाते हैं लेकिन यह अवैध कमाई छोटी ना होकर लाखों रुपए प्रतिदिन की बताई जाती है। बोर्डर से हजारों गुजरने वाले ट्रकों से लाखों रुपए की रोज अवैध वसूली को लेकर मामला अब केंद्र सरकार तक पहुंच गया है



जिसको लेकर भारत के परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने 16 जुलाई को सीएम शिवराज सिंह चौहान के नाम पत्र लिखकर स्वयं की निगरानी में मामला संज्ञान में लेते हुए उचित और सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। आपको बता दें कि मध्य प्रदेश की कई बॉर्डर पर एंट्री के नाम से अवैध वसूली का धंधा चरम पर था, एंट्री नहीं देने पर मौजूद अधिकारियों द्वारा अपमानजनक शब्दों का भी उपयोग किया जाता था।



पत्र के कहा..

सड़क परिवहन एवं राज्य मार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने अपने पत्र में कहा कि चेक पोस्ट एंट्री के लिए बड़े पैमाने पर हो रही रिश्वतखोरी के बारे में बताया गया है कि सारे कागजात ठीक पाए जाने और गाड़ी अंडरलोड पाए जाने पर किसी प्रकार की एंट्री भरने का प्रावधान नहीं है, फिर भी ट्रक ड्राइवर एवं मालिकों को परेशान किया जा रहा है उन्होंने कहा कि मैंने इसके पहले भी मध्य प्रदेश सरकार को इस विषय में ध्यान आकर्षित करने की प्रार्थना की थी, लेकिन इस समस्या का कोई भी हल अभी तक नहीं निकला है जिसके वजह से मध्य प्रदेश का नाम खराब हो रहा है। उन्होंने लिखा कि ऐसी एंट्री लेने वालों के खिलाफ चेक पोस्ट बैरियर पर सकता और उचित कार्रवाई करना चाहिए।

आपको बता दें कि आप तो जानकारी के अनुसार इतनी मोटी प्रति दिन की कमाई सिर्फ बॉर्डर तक सीमित नहीं रहती, सूत्रों के हवाले से बताया यह भी गया है लाखों रुपए की अवैध वसूली के हिस्सेदार नीचे से लेकर ऊपर तक बैठे हुए हैं। जब हमने इस बारे में सेंधवा- शिरपुर चेक पोस्ट की एक महिला अधिकारी से चर्चा की तो उन्होंने उचित जवाब न देकर आरटीआई साहब से चर्चा करने के लिए कहा। हमारी टीम लगातार इस पड़ताल में लगी है कि आखिर चेक पोस्ट पर अवैध वसूली क्यों और किसके निर्देशन में की जा रही हैं।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button