Breaking News

“विजयी विश्व तिरंगा प्यारा” पर हुई ‘शिवराज मामा की पाठशाला’

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने राष्ट्रीय ध्वज की विकास गाथा पर ली विद्यार्थियों की क्लास



भोपाल : (मप्र.) मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि “विजयी विश्व तिरंगा प्यारा, झंडा ऊँचा रहे हमारा, इसकी शान न जाने पाए, चाहे जान भले ही जाए” यह केवल गीत नहीं आजादी की लड़ाई का मंत्र था। भारत सांस्कृतिक रूप से सदा से ही एक रहा है। हमारे देश का गौरवशाली इतिहास रहा। भारत की समृद्धि की चर्चा पूरी दुनिया में होती थी। इसी के परिणामस्वरूप पुर्तगाली, डच, अंग्रेज आदि कई विदेशी शक्तियाँ भारत आईं और हमें आपसी फूट के कारण गुलाम होना पड़ा। अंग्रेजों के विरूद्ध भारत में वर्ष 1761 में संन्यासी विद्रोह और फकीर विद्रोह से संघर्ष आरंभ हुआ। पहला स्वतंत्रता संग्राम 1857 में अमर शहीद मंगल पांडे ने आरंभ किया। स्वतंत्रता के लिए चले लंबे संघर्ष में अनेकों शहीदों के बलिदान के परिणामस्वरूप हमारा देश स्वतंत्र हुआ। स्वतंत्रता की इस लड़ाई में हमारे ध्वज का बहुत महत्व रहा।

मुख्यमंत्री श्री चौहान भोपाल के मॉडल स्कूल में “शिवराज मामा की पाठशाला” को संबोधित कर रहे थे। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कक्षा में उपस्थित विद्यार्थियों को #HarGharTiranga अभियान, स्वतंत्रता संग्राम, राष्ट्रीय ध्वज की विकास गाथा और तिरंगा फहराने के नियमों की जानकारी दी। माध्यमिक शिक्षा मंडल की अध्यक्ष श्रीमती वीरा राणा, प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती रश्मि अरूण शमी, आयुक्त लोक शिक्षण श्री अभय वर्मा, संचालक राज्य शिक्षा केंद्र श्री धनराजू एस उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने दीप प्रज्ज्‍वलित कर कार्यक्रम का शुभारंभ किया। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने मॉडल स्कूल भोपाल द्वारा #हर_घर_तिरंगा अभियान के लिए विकसित लीफलेट का विमोचन भी किया। सीएम सर श्री चौहान ने पूरी क्लास के दौरान बच्चों को और क्या-क्या मंत्र दिए राष्ट्रीय ध्वज की विकासगाथा का वर्णन किस तरह से किया। अपने घर पर तिरंगा झंडा फहराने के कौनसे नये संशोधित नियम की जानकारी दी। जानने के लिए क्लिक करें: https://bit.ly/3bR0U0C

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button