Breaking News

विधायक डॉ हीरालाल अलावा की अध्यक्षता मैं राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस की बैठक आयोजित

मनावर : (मप्र.) विकासखंड मनावर में 13 सितंबर 2022 को आयोजित होने वाले राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के लिए विधायक डॉ हीरालाल अलावा की अध्यक्षता में शिक्षा विभाग के समस्त संकुल प्रभारी की बैठक आयोजित की गई।

जिसमें डॉक्टर अलावा द्वारा बताया गया कि कृर्मी एक परजीवी कीटाणु है, जो कि मनुष्य की आंतो में पलता है तथा मनुष्य द्वारा ग्रहण किए गए भोजन को खाता है जिससे कि मनुष्य में कई प्रकार की बीमारियां पैदा होने का खतरा बढ़ जाता है। इसलिए प्रतिवर्ष क्रमी नाशक दिवस मनाया जाता है एवं इस दिवस 1 वर्ष से 19 वर्ष की अवस्था के सभी बालक बालिकाओं को कृमि नाशक गोली एवं सायरप की खुराक दी जाती है, ताकि बच्चों में एनीमिया एवं कुपोषण की बीमारियां ना हो। विधायक ने जीर्ण-शीर्ण हो रहे शासकीय विद्यालयों को मरम्मत करने एवं शिक्षा को लेकर बेहतर और उचित कदम उठाने का सुझाव दिया।



इस वर्ष 13 सितंबर 2022 को राष्ट्रीय कृमि नाशक दिवस के अवसर पर सभी स्कूलों एवं आंगनवाड़ी में कृमि नाशक दवा खिलाई जावेगी, इसलिए सभी स्कूल शिक्षक आंगनवाड़ी कार्यकर्ता एवं स्वास्थ्य कार्यकर्ता इसका व्यापक रूप से प्रचार प्रसार करें एवं 13 सितंबर को आंगनबाड़ी एवं स्कूल के छात्र छात्राओं को कृमि नाशक दवा अवश्य खिलावे। 13 सितंबर को ही विकासखंड के सभी आंगनवाड़ी केंद्रों मे अप्रवेशी बालक, बालिकाएं एवं शाला त्यागी बालक बालिकाओं को क्रमी नाशक दवाई खिलाई जावेगी 16 सितंबर को इसका मापअप राउंड होगा जिसमें छूटे हुए बालक बालिकाओं को कृमि नाशक दवाई खिलाई जाएगी।

बैठक में अनुविभागीय दंडाधिकारी भुपेंद्र रावत द्वारा बीइओ बीआरसी संकुल प्रभारी एवं जन शिक्षकों आंगनवाड़ी सुपरवाइजर को निर्देश दिए कि सभी स्कूलों एवं आंगनवाड़ी में 13 सितंबर को अधिक से अधिक बच्चों को कृमि नाशक दवाई खिलाई जावे एवं बच्चों के पालक को प्रेरित करें कि 13 सितंबर को सभी बच्चों को आंगनवाड़ी में एवं स्कूल में अवश्य रुप से भेजें।

मुख्य खंड चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर जी एस चौहान द्वारा बताया गया कि क्रमी एक परजीवी कीटाणु है जोकि गंदे हाथों से भोजन करने तथा बिना धोए फल सब्जी आदि को खाने से मनुष्य के शरीर में प्रवेश करता है तथा मनुष्य के शरीर को हानि पहुंचाता है बच्चों के शरीर में विशेष रूप से यह कृर्मी यदि प्रवेश कर जाता है। तो बच्चों को मुख्य रूप से एनीमिया एवं कुपोषण होने का खतरा अधिक होता है इससे बच्चे का पढ़ाई में मन नहीं लगता है एवं शारीरिक व मानसिक विकास वृद्धि में बाधक होता है। इसलिए खाना खाने के पूर्व एवं सोच जाने के बाद साबुन से हाथ अवश्य धोएं साथ ही फल सब्जी इत्यादि धोकर उपयोग में लावे एवं कृर्मीनाशक दिवस पर सभी बच्चों को कृमि नाशक दवा अवश्य खिलवाई जावे।

इस अवसर पर बीईओ भरत जांचपुरें, स्वास्थ्य विभाग के बीपीएम मुकेश पाटीदार, बीसीएम कमल रावल, कथा जन शिक्षक एवं अधिकारी तथा कर्मचारी उपस्थित थे। जानकारी स्वास्थ्य विभाग के खंड विस्तार प्रशिक्षक एचसी पाचुरेकर द्वारा दी गई।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button