Breaking News

सोनाली फोगाट के पीए सुधीर सांगवान ने गोवा पुलिस की पूछताछ में साजिश की बात कबूली



Sonali Phogat : सोनाली फोगाट मामले में सबसे बड़ी खबर सोनाली के PA सुधीर सांगवान ने गोवा पुलिस की पूछताछ में साजिश की बात कबूली है। जिसके बाद गोवा में सीएम प्रमोद सांवत ने पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक कर जल्द चार्जशीट दाखिल करने के निर्देश दिए है। तो वहीं दूसरी तरफ हरियाणा में गोवा पुलिस की जांच टीम PA सुधीर सांगवान के रोहतक वाले घर में तलाशी की तैयारी कर रही है। सोनाली फोगाट के भाई वतन ढाका और रिंकू ढाका ने एबीपी न्यूज़ से बातचीत में जानकारी दी है। गोवा पुलिस सुधीर सांगवान के परिवार से भी पूछताछ कर सकती है।

पिछले 5 दिनों से हिसार में जांच कर रही गोवा पुलिस के हाथ सोनाली फोगाट की तीन डायरी लगी हैं। परिवार के सदस्यों के मुताबिक, इन डायरियों में सिर्फ सोनाली फोगाट के भाषण, पार्टी कार्यकर्ताओं और नेताओं के फोन नंबर और कुछ खर्चों का लेखा-जोखा है। गोवा पुलिस टीम लॉकर को सील करने के अलावा इन डायरियों को अपने साथ ले गई है।

सोनाली की प्रॉपर्टी पर थी सुधीर की नजर

इससे पहले गोवा पुलिस ने खुलासा किया था कि सोनाली की करोड़ों रुपये की प्रॉपर्टी पर सुधीर की पैनी नजर थी। वो हर कीमत पर सोनाली का एक फार्महाउस 20 साल के लिए लीज पर लेना चाहता था। वह केवल 60 हजार रुपये हर साल देकर ये डील पक्की करना चाहता था।

फार्म हाउस को 20 साल की लीज पर चाहता था सुधीर

पुलिस जांच के मुताबिक, सोनाली फोगाट का ये फार्महाउस 6.5 एकड़ में फैला हुआ है जिसकी मॉर्केट वैल्यू 6 से 7 करोड़ के बीच है, अब इस मामले में ये एक बड़ी डेवलमेंट के तौर पर देखा जा रहा है। असल में सोनाली फोगाट के पास करोड़ों की प्रॉपर्टी थी, ऐसे में इस एंगल से भी जांच की जा रही है कि क्या पैसों के लिए या फिर सोनाली की प्रॉपर्टी पर कब्जे के लिए कही उनकी हत्या तो नहीं करवा दी गई?

CBI जांच की मांग कर रहा परिवार

वहीं दूसरी ओर सोनाली का परिवार लगातार सीबीआई जांच की मांग कर रहा है। सोनाली के भतीजे विकास सिंघमार ने बड़ा बयान दिया है। उन्होंने कहा कि गोवा पुलिस इस मामले में उचित जांच नहीं कर रही है. मुझे लगता है कि इसके पीछे राजनीतिक प्रभाव भी है, इसलिए अब हम सीबीआई (केंद्रीय जांच ब्यूरो) जांच की मांग को लेकर गोवा हाईकोर्ट का रुख करेंगे।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button