Breaking News

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ‘मोदी@20’ सपने हुए साकार किताब का किया विमोचन

दीपचंद सोनकर

मुख्यमंत्री ने प्रबुद्ध लोगों से किया संवाद

पूरी काशी व उत्तर प्रदेश अभिभूत है, प्रधानमंत्री के यशस्वी भारत दर्शन हुआ नेतृत्व के लिए-मुख्यमंत्री

पूरा भारत विश्वास के साथ उठ खड़ा हुआ है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यशस्वी नेतृत्व में-योगी आदित्यनाथ

इंसेफेलाइटिस के वैक्सीन को भारत आने में 100 वर्ष लग गए

जबकि कोरोना कॉल में 2-2 स्वदेशी वैक्सीन भारत ने बनाया

200 करोड़ डोज वैक्सीन का फ्री लोगों को उपलब्ध कराया गया

दुनिया के 25-30 देशों को भी भारत का बना कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध कराई गई

सीएम ने विपक्षियों पर हमला बोलते हुए कहा कि जब बैंको में गरीबों का जनधन खाता खोला गया, तो लोग पूछते थे कि इस जनधन खाते में पैसा कब आएगा, यह सवाल एक रुपए का पचासी पैसा खाने वाले उठा रहे थे

यदि यह जनधन खाता नहीं होता तो कोरोना कॉल में डीबीटी से पैसा कैसे पहुंचता

पैसा बैंक में जमा होता है, तो परिवार आर्थिक स्वावलंबन की ओर बढ़ता है-मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ



वाराणसी। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने दो दिवसीय दौरे के दूसरे दिन शुक्रवार को रुद्राक्ष इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर में ‘मोदी@20’ सपने हुए साकार पुस्तक के हिन्दी संस्करण का विमोचन किया। यह पुस्तक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 20 साल के राजनीतिक जीवन की उपलब्धियों पर आधारित है। पुस्तक के विमोचन के बाद मुख्यमंत्री कन्वेंशन सेंटर में शहर के प्रबुद्ध लोगों से संवाद किया।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित प्रबुद्ध जनों एवं नागरिकों को संबोधित करते हुए दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेताओं में शुमार व वाराणसी के जनप्रिय सांसद तथा देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के 20 वर्ष के उस सार्वजनिक कार्य प्रणाली पर आधारित ‘मोदी@20’ पुस्तक के हिंदी संस्करण के विमोचन पर लोगों का अभिनंदन करते हुए कहां कि पूरी काशी व उत्तर प्रदेश अभिभूत है प्रधानमंत्री के यशस्वी भारत दर्शन हुआ नेतृत्व के लिए। पूरा भारत विश्वास के साथ उठ खड़ा हुआ है प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के यशस्वी नेतृत्व में। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया के अंदर वैश्विक मंच पर जहां पर विश्व मानवता के लिए नीति निर्धारित हो रही हो, भारत के बगैर हो क्रियान्वयन हो ही नहीं सकता। 2019 में चुनाव के दौरान भारतीय समुदाय की ओर से एक स्लोगन निकला था, कि “मोदी है तो मुमकिन है” और उसे उन्होंने सिद्ध कर दिया।भारत दुनिया का पांचवी अर्थव्यवस्था बन गया है। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि भारत विश्व का पांचवी अर्थव्यवस्था उस ब्रिटेन को पछाड़कर बना है, जिसने हम पर 500 वर्षों तक राज किया। यह गौरव प्राप्त हुआ है, जब देश आजादी का 75वां अमृत महोत्सव मना रहा है। “हर घर तिरंगा” कार्यक्रम जन सरोकार का सबसे बड़ा उदाहरण है। सदी का सबसे बड़ा महामारी कोरोना त्रासदी के दौरान प्रधानमंत्री मोदी पहले दिन से जो मंत्र देना शुरू किया था, उसके अनुरूप कोरोना से निपटने का कार्य देश ने किया। उस दौरान जीवन और जीविका को बचाने का कार्य बड़े पैमाने पर किया गया। कोरोना कॉल में दुनिया के लिए भारत संजीवनी देने वाला साबित हुआ। मुख्यमंत्री ने गोरखपुर में फैले इंसेफेलाइटिस की चर्चा करते हुए बताया कि 1977 में यह फैला था, लेकिन उस समय की सरकार के कानों तक इसकी सूचना पहुंची 1998 में जब मैं वहां का सांसद बना और इसकी वैक्सीन वर्ष 2005 में आया। जबकि वर्ष 1905 में ही इसकी वैक्सीन जापान में बन गया था। वैक्सीन को भारत आने में 100 वर्ष लग गए। जबकि कोरोना कॉल में 2-2 स्वदेशी वैक्सीन भारत ने बनाया। 200 करोड़ डोज वैक्सीन का फ्री लोगों को उपलब्ध कराया गया। इतना ही नहीं दुनिया के 25-30 देशों को भी भारत का बना कोरोना की वैक्सीन उपलब्ध कराई गई।


मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहां कि ‘एक भारत-श्रेष्ठ भारत’ के रूप में देश को बदलते लोगों ने देखा है। इस दौरान उन्होंने विपक्षियों पर हमला बोलते हुए कहा कि गरीबों का जनधन योजना में खाता जब बैंकों में खोला गया, तो लोग पूछते थे कि इस जनधन खाते में पैसा कब आएगा और यह सवाल एक रुपए का पचासी पैसा खाने वाले उठा रहे थे। यदि यह जनधन खाता नहीं होता तो कोरोना कॉल में डीबीटी से पैसा कैसे पहुंचता। पैसा बैंक में जमा होता है, तो परिवार आर्थिक स्वावलंबन की ओर बढ़ता है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2014 में 2 अक्टूबर को स्वच्छ भारत योजना देश में चलाई। तब भी लोगों ने सवाल उठाए थे। लेकिन आज लोग इसे समझ चुके हैं। कितनी बीमारियों पर अंकुश स्वच्छता से लगाया जा चुका है। उन्होंने बताया कि 3 करोड़ से अधिक गरीब लोगों को बिना भेदभाव के आवास मिला है। उज्जवला योजना में 8.5 करोड़ परिवारों को निःशुल्क गैस कनेक्शन मिले। 4.5 करोड़ परिवारों को निःशुल्क कनेक्शन दिया गया। युवाओं के लिए प्रधानमंत्री स्टार्टअप व प्रधानमंत्री स्टैंड अप योजना चलाया गया। जिससे युवाओं को रोजगार मिला और उनके जीवन में बदलाव आया। महिलाओं के लिए जीवन ज्योति एवं मातृ वंदना योजना चलाया गया। उन्होंने विशेष रूप से जोर देते हुए कहा कि विरासत को भी सम्मान दिया गया है। योग को दुनिया के वैश्विक मंच पर स्थापित करने का भी कार्य किया गया। 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पूरा दुनिया मनाता है। दुनिया के 175 देशों में लोग योग दिवस मनाते हैं। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि दुनिया का कोई ऐसा क्षेत्र नहीं जिसे दुनिया के वैश्विक मंच पर स्थापित करने का कार्य प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नहीं किया। सभी क्षेत्रों में भारत का मान दुनिया के वैश्विक मंच पर बड़ा है। कुंभ को मानवता का मूर्त रूप बनाने का कार्य किया गया। श्री काशी विश्वनाथ धाम कॉरिडोर दुनिया के सामने हैं। 500 वर्ष में कितनी ही पीढ़ियां गुजर गई, लेकिन अयोध्या में राम मंदिर का शिलान्यास में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आए। उन्होंने कहा कि एक समय वह था, जब सोमनाथ मंदिर के जीर्णोद्धार कार्यक्रम में जाने से प्रधानमंत्री को रोका गया था। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यशैली का उल्लेख करते हुए कहा कि उनके नेतृत्व में किए गए कार्य के फल स्वरुप गुजरात के विकास मॉडल की चर्चा पूरे देश/दुनिया में हुई और आज भारत का मॉडल पूरी दुनिया में प्रस्तुत किया जाता है। इससे पूर्व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दीप प्रज्वलित कर एवं भारत माता के चित्र पर पुष्पांजलि कर कार्यक्रम की विधिवत शुरुआत की। कार्यक्रम की अध्यक्षता काशी हिंदू विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर प्रोफेसर सुधीर जैन ने किया।
अतिथियों का स्वागत एवं स्वागत भाषण क्षेत्रीय अध्यक्ष महेश चंद श्रीवास्तव व धन्यवाद ज्ञापन महानगर अध्यक्ष विद्यासागर राय ने किया। संचालन विधान परिषद सदस्य एवं प्रदेश मंत्री सुभाष यदुवंश ने किया।

इनका हुआ सम्मान

रुद्राक्ष अन्तर्राष्ट्रीय कन्वेशन सेंटर में आज आयोजित मोदी@20 पुस्तक के विमोचन के अवसर पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में क्षेत्रीय अध्यक्ष महेश चंद श्रीवास्तव ने काशी की 11 विभुतिया जिसमें पद्मभूषण प्रो. वशिष्ठ त्रिपाठी, पद्मश्री चंद्रशेखर सिंह, पद्मश्री शिवनाथ मिश्र, पद्मश्री रजनीकांत, पद्मश्री डा राजेश्वर आचार्य, ख्यातिलब्ध समाज वैज्ञानिक प्रो अरविंद जोशी, राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त डा हरेंद्र राय, राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त प्रो. रामनारायण द्विवेदी, पं श्रीकांत मिश्र, दैनिक जागरण के संपादक भारतीय बंसत कुमार, अमर उजाला के संपादक वीरेंद्र आर्या, राष्ट्रीय सहारा के संपादक स्नेह रंजन आदि का अंगवस्त्रम एवं पुस्तक भेट कर सम्मान किया।

*

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button